Sweet Corn 🌽 भुट्टा (मकई) खाने के अदभुत फायदे जानकर आप चौंक जाएंगे:

Sweet Corn🌽भुट्टा (मकई) खाने के अदभुत फायदे जानकर आप चौंक जाएंगे: भारत में गर्मियों का मौसम अपने साथ कई सारे गुणकारी लाभदायक फलों को लेकर अपने साथ आता है जिनका यदि सही मात्रा में सेवन किया जाए तो ना सिर्फ गर्मी से राहत मिलती है बल्कि शरीर सुंदर और निरोगी भी बनता है l

गर्मियों का मौसम समाप्त होते ही बरसात के पहले अक्सर आपको सड़कों चौराहों पर भुने हुए स्वीट कॉर्न यानी भुट्टे जरूर देखने को मिलते होंगे कई सारे लोगों को तो इन भुट्टो को खाते हुए भी देखते होंगे लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इन गुणकारी स्वीट कॉर्न मकई में कितने सारे आयुर्वेदिक गुण छिपे हुए हैं जो कि आपके शरीर को कई सारी बीमारियों से छुटकारा दिलाने में अहम भूमिका निभाते हैंl

जहां तक इन भुट्टो में पाए जाने वाले विटामिंस का सवाल है तो इनमें विटामिन ए, विटामिन बी , विटामिन-ई खनिज लवण और एंटीऑक्सीडेंट के अलावा कई अन्य प्रकार के पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जो कि हमारे शरीर को कई सारे बीमारियों के खतरनाक वायरस खत्म कर शरीर को निरोगी बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं।

भारत में मानसून के समय में स्वीट कॉर्न भुट्टा आपको मार्केट, चौराहों, भीड़भाड़ वाली गलियों के किनारे ठेले वाले अक्सर भुट्टा भूनते हुए  या (दिल्ली जैसे शहरों में इसे छ ल्ली वाले) ठेलों आपको नजर आ जाएंगे और कई सारे लोग इन भुट्टो का लुफ्त उठाते हुए भी आपको नजर आ जाएंगे , आइए आज जानते हैं इन गुणकारी औषधि गुणों से भरपूर भुट्टो Sweet- Corn (मकई) के बारे में l

1- वजन को कम करने में लाभदायक:

यदि यदि आप मोटापे की वजह से परेशान हैं और अपने आप को हेल्थी Slim बॉडी पाना चाहते हैं तो ऐसे में स्वीट कॉर्न  मकई पतला करने में बेहद मददगार साबित होता है, मकई के आटे से बनी हुई रोटियां खाने से शरीर में जमीन एक्स्ट्रा चर्बी (फैट) कम होता है जिससे कि शरीर यदि मोटा है तो धीरे-धीरे पतला होता जाता है जिससे कि मोटापे की समस्या से हमेशा के लिए कोई भी छुटकारा पा सकता है। मकई में कैलोरी की मात्रा कम पाई जाती है जोकि फैट Fat को बढ़ाने से रोकने में मददगार होती है।

2- शरीर को फुर्तीला और नौजवान बनाने में सहायक:

बाहरी जंग फूड ऑइली(Oily) चीजें लगातार खाने से शरीर में फैट (चर्बी) की मात्रा बढ़ती जाती है जिससे कि शरीर में पहले से मौजूद कई प्रकार की विटामिंस, फाइबर, प्रोटीन, खनिज लवण जैसे महत्वपूर्ण तत्वों की कमी हो जाने से शरीर काफी दुबला पतला और कमजोर हो जाता है, ऐसे में रोज 1 भुना हुआ या उबले हुए भुट्टे का सेवन करने से इसमें मौजूद प्रोटींस,विटामिंस,(ए, बी, ई)और एंटीऑक्सीडेंट जैसे तत्वों की वजह से शरीर पुनः फुर्तीला और सुडौल बनता है l

3- त्वचा को मुलायम (गोरा) और चमकदार बनाने में सहायक:

भुट्टा या मकई के आटे का प्रयोग अक्सर कर लोग त्वचा को मुलायम और चमकदार करने के लिए इसका पेस्ट बनाकर फेस पर लगाते हैं, इसके अंदर पहले से मौजूद कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट तत्वों की मौजूदगी की वजह से त्वचा के बाहरी हिस्से में जो धूल कण जमे होते हैं उसको यह पूरी तरह से हटाकर त्वचा को सुंदर और चमकदार बनाने में मदद करता है।

4-शरीर में बढ़ रहे कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कंट्रोल करने      में सहायक:

भुट्टे में प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो कि शरीर में पहले से मौजूद बड़े हुए कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करने में बेहद मददगार साबित होता है। इसमें पहले से मौजूद कई प्रकार के विटामिन और एंटीबायोटिक तत्वों की भरपूर मात्रा होने की वजह से यह शरीर में नई कोशिकाओं को उत्पन्न कर पहले से मौजूद कई प्रकार की  बैक्टीरिया,जीवाणुओं को नष्ट करके शरीर में बढ़ रहे  कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने में बेहद लाभदायक होता है।

5- आंखों की रोशनी बढ़ाने में मददगार:

स्वीट कॉर्न यानी भुट्टे में विटामिन ए की प्रचुर मात्रा पाई जाती है जो कि मछली के अलावा सबसे ज्यादा भुट्टे में ही यह विटामिन पाई जाती है। आपको तो पता ही होगा की विटामिन- ए की सही मौजूदगी की वजह से रतौंधी जैसा भयंकर रोग आपको कभी छू भी नहीं पाएगा। इसलिए डॉक्टर भी सुझाव देते हैं कि अपने दैनिक आहार में पर्याप्त मात्रा में स्वीट कॉर्न यानी मकई का सेवन जरूर करना चाहिए।

6- दिल (Heart 💓)की बीमारियों में बेहद लाभदायक:

जिन लोगों को Heart (हार्ट) की बीमारियों से संबंधित छोटी मोटी समस्याओं का सामना रोज करना पड़ता है जैसे सांस लेने में दिक्कत, घबराहट, हॉट- अटैक जैसी समस्याओं का सामना  करना पड़ता है, वह अपने डॉक्टर के परामर्श मकई (Seet Corn) का आटा अपने दैनिक जीवन में शामिल कर सकते हैं ,क्योंकि कई बार ऐसा देखा गया है कि इस तरह की छोटी मोटी समस्याएं मकई के आटे से बनी रोटी जिसमें उचित मात्रा में विटामिन,मिनरल्स, खनिज और अन्य पौष्टिक तत्वों की भरपूर मौजूदगी होती है, और इसमें Lo-Fat यानी फाइबर की मात्रा कम पाए जाने के कारण यह शरीर में अतिरिक्त चर्बी को बढ़ने से रोकता है और शरीर में खून के बहाव  को भी नियंत्रित करता है जिससे कि दिल Heart  से संबंधित कई प्रकार की समस्याओं से छुटकारा मिल जाता हैl

7- कब्ज या एसिडिटी की समस्या में बेहद लाभदायक:

जिम लोगों को कब्ज, एसिडिटी की समस्या है वह भुट्टे के ऊपरी भाग पर पाए जाने वाले  रेशम जैसे बालों को उतारकर उसको एक लिटर पानी में उबालें और उसका सेवन 100 ग्राम सुबह और 100 ग्राम शाम को करें , इस प्रकार इस पानी को पीने से, ऐसा करने से पेट में पहले से बन रही कब्ज, एसिडिटी की समस्या से पूरी तरह से छुटकारा पाया जा सकता है l

लोगों द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उनके सही सटीक जवाब?

प्रश्न: क्या बच्चे भी खा सकते हैं स्वीट-कोर्न (भुट्टा)

ANS:- जी, हाँ बील्कुल खा सकते हैं…

प्रश्न: – भुट्टा(Sweet Corn 🌽) खाने से वजन बढ़ता है या नहीं?

उत्तरजीनहीं! भुट्टा(मकई) खाने से वजन नहीं बढ़ता है, क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा बहुत कम पाई जाती है और इसमें चर्बी या Fat को  बढ़ाने वाले कोई भी मौलिक तत्व भी नहीं पाए जाते, इसलिए भुट्टा खाने से ना ही मोटापा बढ़ता है और ना ही तरीका वजन बढ़ता है l

प्रश्न:-क्या मधुमेह रोगी भुट्टा (मकई) खा सकते हैं?

उत्तरजी हां बिलकुल खा सकते हैं क्योंकि सीट कॉर्न में शुगर की मात्रा ना के बराबर होती है , इसमें फाइबर भी कम मात्रा में पाया जाता है जो कि मधुमेह के रोगियों (Pesent)के लिए किसी प्रकार का  जोखिम नहीं बढ़ाता है l

प्रश्न:-भुट्टा कब खाना चाहिए और कब नहीं?

उत्तरभुट्टा खाने का सबसे सही तरीका इसको आप खाना खाने के कुछ समय बाद खा सकते हैं, भुट्टे को खाली पेट नहीं खाना चाहिए l

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment